neend kyu jruri hai ?

हम में से ज्यादातर लोगों को अगर रात में ठीक से नींद न आए तो कुछ भी सोचने में परेशानी होती है-कुछ अनमना सा महसूस होता है और इसका स्कूल, विश्वविद्यालय या काम में हमारे सामान्य कामकाज पर असर पड़ता है।

आप महसूस करेंगे कि कम सोने से आप कहीं भी ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं या आपकी याद्दाश्त आपका साथ छोड़ने लगती है।

यह सच है कि नींद न आने का सिलसिला अगर दशकों तक चले तो यह संभावित रूप से संज्ञानात्मक गिरावट का कारण बन सकती है।

खराब नींद लोगों के मूड और व्यवहार को भी प्रभावित करती है, चाहे वे छोटे शिशु हों या बड़े वयस्क। तो हमारे मस्तिष्क को लंबी अवधि में ठीक से काम करने के लिए कितनी नींद की आवश्यकता होती है?

नेचर एजिंग में प्रकाशित हमारा नया शोध अध्ययन इस सवाल का जवाब खोजने का प्रयास करता है।

मस्तिष्क के सामान्य कामकाज को बनाए रखने के लिए नींद एक महत्वपूर्ण घटक है। नींद के दौरान मस्तिष्क खुद को पुनर्गठित और रिचार्ज करता है। साथ ही जहरीले अपशिष्ट उपोत्पादों को हटाने और हमारी

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए, नींद ‘यादें संजाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण है, नींद के दौरान हमारे अनुभवों के आधार पर नए मैमोरी सैगमेंट दीर्घकालिक स्मृति में स्थानांतरित हो जाते हैं।

नींद की एक इष्टतम मात्रा और गुणवत्ता हमें अधिक ऊर्जा और बेहतर स्वास्थ्य प्राप्त करने में सक्षम बनाती है। यह हमें हमारी रचनात्मकता और सोच को विकसित करने में भी मदद देती है। तीन से 12 महीने की उम्र के बच्चों को देखते हुए, शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया है कि बेहतर नींद जीवन के

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए, नींद ‘यादें संजाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण है, नींद के दौरान हमारे अनुभवों के आधार पर नए मैमोरी सैगमेंट दीर्घकालिक स्मृति में स्थानांतरित हो जाते हैं।

नींद की एक इष्टतम मात्रा और गुणवत्ता हमें अधिक ऊर्जा और बेहतर स्वास्थ्य प्राप्त करने में सक्षम बनाती है। यह हमें हमारी रचनात्मकता और सोच को विकसित करने में भी मदद देती है।

तीन से 12 महीने की उम्र के बच्चों को देखते हुए, शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया है कि बेहतर नींद जीवन के पहले वर्ष में बेहतर व्यवहार परिणामों से जुड़ी होती है, जैसे कि नई परिस्थितियों के अनुकूल होने या भावनाओं को कुशलता से नियंत्रित करने में सक्षम होना।

यह संज्ञानात्मक लचीलेपन (आसानी से परिप्रेक्षय बदलने की हमारी क्षमता) सहित अनुभूति के लिए महत्वपूर्ण प्रारंभिक निर्माण खंड हैं, और बाद के जीवन में हमारे बेहतर स्वास्थ्य से जुड़े होते हैं।

सही मात्रा में नींद लेना

हमारे अध्ययन का उद्देश्य नींद, अनुभूति और बेहतर स्वास्थ्य के बीच की कड़ी को बेहतर ढंग से समझना था। हमने पाया कि अपर्याप्त और अत्यधिक नींद दोनों ने यूके बायोबैंक के लगभग 500,000 वयस्कों के संज्ञानात्मक प्रदर्शन को प्रभावित करने में योगदान दिया।

इस शोध में मध्यम आयु वर्ग से वृद्धावस्था के लोगों को शामिल किया गया था। हालांकि, हमने बच्चों और किशोरों का अध्ययन नहीं किया और चूंकि उनके दिमाग का विकास हो रहा है, इसलिए उनके लिए नींद की आवश्यक अवधि अलग हो सकती है।

7 घंटे की नींद जरूरी

हमारी प्रमुख खोज यह थी कि प्रति रात सात घंटे की नींद इष्टतम थी, इससे कम या ज्यादा सोने से अनुभूति और मानसिक स्वास्थ्य को कम लाभ मिलते हैं।

वास्तव में हमने पाया कि जो लोग सात घंटे सोते थे, उन्होंने कम या अधिक सोने वालों की तुलना में संज्ञानात्मक परीक्षणों (प्रोसैसिंग गति, दृश्य ध्यान और स्मृति सहित) पर औसतन बेहतर प्रदर्शन किया।

सामान्य लोगों को भी अवधि में बहुत अधिक उतार-चढ़व के बिना लगातार सात घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।

अच्छी नींद के लिए क्या करना चाहिए ?

■ एक अच्छी शुरुआत यह सुनिश्चित करना है कि आपके बैडरूम में तापमान और वैंटिलेशन अच्छा है- यह ठंडा और हवादार होना चाहिए।

■ आपको सोने से पहले बहुत अधिक शराब के सेवन और थ्रिलर या अन्य रोमांचक सामग्री देखने से भी बचना चाहिए।

■ आदर्श रूप से जब आप सोने की कोशिश कर रहे हों तो आपको शांत और आराम की स्थिति में होना चाहिए।

■ कुछ सुखद और आरामदेह चीजों के बारे में सोचना, जैसे पिछली बार जब आप समुद्र तट पर थे, कई लोगों के लिए काम करता है।

■ तकनीकी समाधान जैसे एप्प या उपकरण मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ नींद पर नजर रखने और नींद की अवधि की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं।

■ जीवन का आनंद लेने और रोजमर्रा की जिंदगी में बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए, आप अपने स्वयं के नींद पैटर्न की निगरानी करें और यह सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से 7 घंटे की नींद ले रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *