तेरा शुकराना – मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना

मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना…मेरी हर सांस में तेरे नाम के लिए तेरा शुकराना… मेरे हर गुनाह की माफी के लिए तेरा शुकराना…मुझे अपने नाम जाप देने के लिए तेरा शुकराना…मुझ गिरते को हर बार संभालने के लिए तेरा शुकराना… … Read more

Guided Meditation in hindi ! सुमिरण ध्यान कैसे करें

Guided Meditation – सुमिरण ध्यान करने की विधि बैठ कर एकांत में योगी, मन इन्द्रियों को वश करे । भय कामना सभी त्याग कर, परमेश्वर का ध्यान धरे ॥ कुशा हो अथवा मृगछाला, उसके ऊपर वस्त्र बिछावे । समतल स्वच्छ एकांत भूमि में, आसन योगी बनावे ॥ मन स्थिर कर अभ्यास करे विचार सभी अन्य … Read more

Shri Swami Swarupanand ji

Shri Swami Swarupanand ji Shri Swami Swarupanand ji का अवतरण बसन्त की सुहानी ऋतु ऋतुराज बनकर आई। कलियाँ मुसकान खिल उठीं। नव पल्लवों ने कोमलांगों द्वारा ऋतुराज का स्वागत किया। भ्रमर पुष्प पुष्प पर गुंजार भरने लगे। हरी-हरी दूब ने पृथ्वी को मखमली गलीचे से ढक दिया। नभ से देवता भी हर्षित होकर पुष्पवृष्टि करने … Read more

Shri Swami Advait Anand ji Maharaj

Swami Advait Anand ji श्री श्री 108 श्री स्वामी अद्वैत आनन्द जी महाराज Shri Swami Advait Anand ji का अवतरण भारत के नभोमण्डल पर खुशियों का एक नया रंग छा रहा था। जन जन का हृदय आनन्द में विभोर हो रहा था। चारों दिशाओं से वायु सुगन्धि छिटकाने लगी। न जाने इतना उल्लास कहां से … Read more

shri nangli sahib

shri nangli sahib – श्री नंगली निवासी भगवान सन्त-महापुरुष धुरधाम से पारमार्थिक कार्य की पूर्ति के लिए अवतरित होते हैं और इसी कार्य को ही करने में संलग्न रहते हैं। आप भी इसी नियमानुसार पारमार्थिक कार्य करते हुए प्रत्येक स्थान को अपने चरण कमलों से भाग्यशाली बना रहे थे। अब आप श्री नंगली साहिब पधारे … Read more

Shri Anandpur

Shri Anandpur dham Shri Anandpur dham श्री परमहंस अद्वैत मत के महान केन्द्र श्री आनन्दपुर की स्थापना श्री परमहंस दयाल जी श्री प्रथम पादशाही जी महाराज ने रूहानियत के उच्च सिद्धान्तानुसार भक्ति-परमार्थ का महान केन्द्र बनाने के लिए संकेत किया था। श्री सद्गुरुदेव महाराज जी श्री दूसरी पादशाही जी ने श्री परमहंस दयाल जी की … Read more

श्री परमहंस दयाल जी का जीवन परिचय

श्री परमहंस दयाल जी का जीवन परिचय – श्री श्री 108 श्री स्वामी अद्वैतानन्द जी महाराज – श्री परमहंस दयाल जी श्री स्वामी अद्वैतानन्द जी (श्री राम याद पुरी) जी अपनी करुणा दया एवं उदारता के गुणों के कारण श्री परमहंस दयाल जी के नाम से जाने जाते हैं। सभी जानते है कि संसार भ्रम … Read more

श्री परमहंस दयाल जी के वचन-जहाँ सज़ा में भी स्वर्ग मिलता है

सज़ा में भी स्वर्ग श्री परमहंस दयाल जी के वचन मेरे श्री परम गुरुदेव ने एक बार श्रीरामनवमी के अवसर पर कहा था कि ‘यह उन परमहंस महाराज का दरबार है जहाँ सज़ा में भी स्वर्ग मिलता है, फिर पुरस्कार का तो कहना ही क्या! इस दरबार के कुत्ते को भी राजा बनते देखा गया … Read more

श्री परमहंस दयाल जी का जीवन चरित्र

जीवन चरित्र – श्री परमहंस दयाल जी का श्री परमहंस दयाल जी त्याग, तप, तितिक्षा, दया, क्षमा, उदारता, निस्पृहता, फक्कड़पन, निर्भीकता की साक्षात् मूर्ती जब भी श्री परमहंस दयाल जी महाराज का अनुस्मरण होता है तब उनके रूप में त्याग, तप, तितिक्षा, दया, क्षमा, उदारता, निस्पृहता, फक्कड़पन, निर्भीकता एवं ‘निर्मानमोहा जितसंगदोषा अध्यात्मनित्या विनिवृत्तकामाः’ के प्रतीक … Read more