जय सच्चिदानंद जी का अर्थ|jai sachidanand ji

जय सच्चिदानंद जी “जय सच्चिदानंद जी”, शब्द तीन शब्दों से मिलकर बना है – सत्त, चित्त और आनंद. ये तीनों परमात्मा के गुण हैं.सत्त का अर्थ है – अविनाशी, सदा रहने वाला .चित्त का अर्थ है – चैतन्य अर्थात ज्ञान रूप (सब जानने वाला).आनन्द का अर्थ है – उत्तेजना रहित सहज खुशी.(Sat – Truth, Chit … Read more

रहमतां गुरुमहाराज दीयाँ बदला वागूं बरस रहियाँ

भजन – रहमतां गुरुमहाराज दीयाँ रहमतां गुरुमहाराज दीयाँ,बदला वागूं बरस रहियाँ-२,श्री चरणाँ विच आकें संगता-२,तर गईयाँ-३, प्यारे-२,स्वामी जी नें,सोहणां करम कमाया-२,सच्चे नाम दा बूटा स्वामी जी,इस दुनियाँ ते लाया-२,नाम दीयाँ मिठियाँ खुशबाँ-२,हर नस-२ विच वस गईयाँ-२,रहमतां गुरुमहाराज दीयाँ,बदला वागूं बरस रहियाँ-२, हर दिल अन्दर वास जिन्हाँ दा,श्री महाराज जी प्यारे-२,करकें नज़राँ मेंहर दीयाँ,सबकें काज सँवारे-२,संगता … Read more

सिमरण की आदत कैसे डालें

सिमरण की आदत 🌹 *सिमरण की आदत डालने के लिए ऐसा करें 👇🏻: * ये ना कहें कि सिमरन के लिए वक़्त नहीं* 🌹आपके घर की दस सीढ़ियाँ हैं, प्रत्येक सीढ़ी चढते व उतरते वक्त बार-बार सिमरन करते रहें !🌹आप रेड लाइट पर खड़े हो, परेशान होने से अच्छा है सिमरन करते रहें ।🌹आप किसी … Read more

तेरा शुकराना – मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना

मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना मेरे उठने से मेरे सोने तक के लिए तेरा शुकराना…मेरी हर सांस में तेरे नाम के लिए तेरा शुकराना… मेरे हर गुनाह की माफी के लिए तेरा शुकराना…मुझे अपने नाम जाप देने के लिए तेरा शुकराना…मुझ गिरते को हर बार संभालने के लिए तेरा शुकराना… … Read more

जब ध्यान न लगे, तब हम क्या करें

—— जब ध्यान न लगे, तब हम क्या करें —— एक बार संत कबीर साहब जी का एक शिष्य उनसे मिलने आया। उसके चेहरे पर गहरी उदासी साफ दिख रही थी। वो मुरझाया हुआ चेहरा लेकर कबीर जी को प्रणाम करके वहां बैठ गया। कबीर जी ने उससे उसकी मायूसी का कारण पूछा। शिष्य ने … Read more

एक सुंदर कविता,जिसके एक-एक शब्द बार-बार पढ़ने को मन करता है

एक सुंदर कविता ख़्वाहिश नहीं मुझे मशहूर होने की….आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है…. अच्छे ने अच्छा और बुरे ने बुरा जाना मुझे,जिसकी जितनी जरूरत थी..उसने उतना ही पहचाना मुझे… जिन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,शामें कटती नहीं और साल गुजरते चले जा रहे हैं… एक अजीब सी ‘दौड़’ है ये … Read more

मेरे सतगुरु आ जाओ

रूहानी टप्पे – मेरे सतगुरु आ जाओ मेरे सतगुरु आ जाओ-२,अँखियाँ तरस रहियाँ,आकें दर्श दिखा जाओ-२, सत्संग विच आ जाओ-२,भुलें होये लोंकां नूँ,सच्चा रस्ता दिखा जाओ-२, मंगा प्रेम दी भक्ति ऐ-२,मेरे साहिब दी ‘वाणीं’ अमृत लगदी ऐ-२, दाता ठण्डी-ठण्डी छाँ देना-२,मेरे साहिब जी,मैनूँ चरणाँ च थाँह देना-२, असीं उड्-उड् काँ देखें-२,दर्शन कर गुरां दें,सब दुख … Read more

हर बन्दें दीं आवाज विच ओ आप बोलदां

हर बन्दें दीं आवाज विच ओ आप बोलदां 💐💐💐💐💐 हर बन्दें दीं आवाज विच, ओ,आप बोलदां-२,हर पंछीं दीं,परवाज़ विच,ओ,आप बोलदां-२,हर रुहं विच मौज़ा माणंदा-२,मेरा बाबा नानक,सबनाँ दें दिल दीयाँ जाणंदा,मेरा बाबा नानक-२,मेरा बाबा नानक,मेरा बाबा नानक-२, कि,राजा,कि,भिखारी, ओहदीं सारियाँ दें नाल यारीं-२,ओहनूँ मिल जान्दां ऐ अपणें तों,जिन्हें अंदर झाँकीं मारीं,साढ़ीं सोच तें रमज़ पछान्दां-२,मेरा बाबा … Read more