जख्म से बहता खून कैसे रोके ,घर में रखी चीजों का करे इस्तेमाल

जख्म से बहता खून कैसे रोके

जख्म से बहता खून कैसे रोके

घर में कुछ काम करते हुए या अचानक चोट लग जाती है। कुछ चोटें । ऐसी भी लग जाती हैं जिनसे खून आसानी से नहीं रुकता। घर में रखीं कुछ चीजों से खून का बहना रोका जा सकता है।

वैसे तो ये सलाह सबके लिए होती है कि घर में फर्स्ट एड बॉक्स जरूर रखें। जिसमें कुछ ऐसी दवाएं शामिल हों जो तेज दर्द को कम कर सकें।

कुछ ऐसे ऑइनमेंट शामिल हों जो चोट पर लगाए जा सकें। खासतौर से बच्चों से भरे घर में तो फर्स्ट एड बॉक्स होना ही चाहिए। अगर आपके घर में फर्स्ट एड बॉक्स नहीं है और, कभी किसी को ऐसी चोट लग जाए जिससे खून आसानी से न रूके तब आप क्या करेंगे।

अस्पताल जाने तक या किसी डॉक्टर के क्लीनिक जाने तक कितना खून बह चुका होगा कहना मुश्किल है। इसलिए चोट लगने पर खून बहना रोकने की शुरूआत घर से ही हो जाए तो अच्छा होता है।

इस स्थिति में आपके पास फर्स्ट एड के नाम पर कुछ नहीं है तो भी घबराएं नहीं। अपने घर में ही रखी कुछ चीजों का इस्तेमाल कर आप चोट वाली जगह से खून’ दो के फ्लो को रोक सकते हैं।

किसी भी चीज का उपयोग करने से पहले चोट वाली जगह को थोड़ा प्रेशर देकर दबाएं। जितनी देर हो सके उस जगह को थोड़ा ऊंचा रखें। इससे खून का बहाव कम होगा। इसके बाद घर में रखे कुछ चीजों के उपयोग से आप खून बहना रोक सकते हैं।

चोट पर बर्फ लगाएं

चोट लगने के बाद तेजी से खून बह रहा हो तो उस जगह पर बर्फ लगाएं। बर्फ को सीधे चोट पर रखने की जगह कपड़े की मदद से स्किन पर लगाएं। बर्फ लगने से स्किन सिकुड़ जाती है और ब्लड फ्लो धीमा हो जाता है। चोट बहुत गंभीर न होने पर बर्फ से खून बहना पूरी तरह भी रूक सकता है।

विच हेजल

विच हेजल में भी एस्ट्रिनजेंट के कुदरती गुण होते हैं। जो खून से मिलकर उसको जमाना शुरू कर देते हैं। । खून थक्के का रूप लेने लगता है और बहना बंद हो जाता है। इससे स्किन टाइटनिंग भी होती है। जिसका असर खून कैरी करने वाली नसों पर पड़ता है और, ब्लड फ्लो धीर-धीरे स्लो हो जाता है।

माऊथवॉश

माऊथवॉश चोट के लिए एस्ट्रिनजेंट की तरह काम करता है। चोट पर माऊथवॉश लगाने से खून थक्का बन कर जमने लगता है। जिससे खून बहना बंद हो जाता है। इसलिए चोट लगने पर उस जगह पर सीधे माऊथवॉश भी डाल सकते हैं।

पैट्रोलियम जेली पेट्रोलियम

जेली में दो मुख्य तत्व होते हैं। एक तो ऑयल और दूसरा होता है वैक्स। दोनों का कॉम्बिनेशन खून के बहाव को धीमा करता है। इसलिए, चोट से खून बहता दिखे तो वहां पैट्रोलियम जेली लगा दें। हालांकि ये नुस्खा ज्यादा तेज बहते खून को जल्दी काबू में नहीं कर पाता। हल्की फुल्की चोट से बहते खून के लिए पैट्रोलियम जेली ठीक है।

टी बैग

चाय में मौजूद टैनिन में हीमोस्टेटिक क्वालिटीज होती हैं। जो खून को क्लोट करने में मदद करती हैं। जिसे चोट लगी हो, उसके जख्म पर टी बैग को गीला करके रख दें। चाय में मौजूद टैनिन खून रोकने का काम करेगा। लेकिन इस काम के लिए ग्रीन टी की जगह ब्लैक टी बैग का उपयोग करना ज्यादा ठीक होगा।

कब जाएं डॉक्टर के पास

घाव गहरा है या किनारे की खाल खुल गई है। घाव व्यक्ति के चेहरे पर है।

घाव में अगर गंदगी या टुकड़ा फंसा है, जो बाहर नहीं निकला।

घाव के आसपास का क्षेत्र अगर सुन्न महसूस हो रहा है।

घाव के चारों ओर लाल धारियां बन गई हैं।

घाव में अगर संक्रमण होने के लक्षण दिखें ।

घाव किसी जानवर या इंसान के काटने का परिणाम है।

गहरे घाव के बाद अगर पिछले पांच वर्षों में टेटनस शॉट नहीं लिया गया है।

• डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *