योगासन | योग आसन | yoga asanas in Hindi

शीर्षासन योगासनों में शीर्षासन को सबसे अच्छा माना गया है। इस आसन को कई नामों से जाना जाता है जैसे- विपरीतकरणी, कपालासन व वृक्षासन शीर्षासन के नाम है। यह आसन अत्यंत प्रसिद्ध व लाभकारी आसन है। 84 लाख आसनों में रोगों को दूर करने वाले जितने गुण होते हैं, वे सारे गुण केवल अकेले शीर्षासन … Read more

PRIMARY DUTY

PRIMARY DUTY This world is full of variety of people of varying ages. Everyone has their own views about life and their duties in this lifetime. As one’s age increases, one’s interests and worldly duties also change. In one age of his life, human being says that running businesses or going to jobs is his … Read more

सेवा-समर्पण का पर्व है गुरु पूर्णिमा

गुरु पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा का सनातन परम्परा में गुरु का बहुत महत्व है। गुरु का आशीर्वाद ही कल्याणकारी एवं ज्ञानवर्धक समझा जाता है। चारों वेदों के व्याख्याता व्यास ऋषि थे। हमें वेदों का ज्ञान देने वाले व्यास जी ही हैं। इसी कारण वे हमारे आदि गुरु हुए। विद्वानों का कथन है कि व्यास जी की … Read more

Guided Meditation in hindi ! सुमिरण ध्यान कैसे करें

Guided Meditation – सुमिरण ध्यान करने की विधि बैठ कर एकांत में योगी, मन इन्द्रियों को वश करे । भय कामना सभी त्याग कर, परमेश्वर का ध्यान धरे ॥ कुशा हो अथवा मृगछाला, उसके ऊपर वस्त्र बिछावे । समतल स्वच्छ एकांत भूमि में, आसन योगी बनावे ॥ मन स्थिर कर अभ्यास करे विचार सभी अन्य … Read more

बूझो तो जाने

बूझो तो जाने – दोहा सांझ पड़ी दिन ढल गया, बाघन घेरी गाय । गाय बिचारी न मरै, बाघ न भूखा जाय ॥ (कबीर वाणी) भावार्थ – वृद्धावस्था-रूपी सांझ आते ही जीवनरूपी सूर्य ढलने लगा तो काल रूपी बाघ सिर पर आ खड़ा हुआ और जीवन-रूपी गाय को घेर कर उसका शिकार कर गया । … Read more

क्या आप जानते हैं आत्मा की अवस्थाएँ कौन कौन सी होती है ?

हमारी आत्मा की अवस्थाएँ क्या आप जानते हैं – कि वेदादि ग्रंथों में हमारी आत्मा की पाँच अवस्थाएँ वर्णित हैं— (1) जागृत, (2) स्वप्न, (3) सुषुप्ति, (4) तुरीय, (5) तुरीयातीत, इसके आगे सर्वोपरि ‘परमहंस अथवा ब्राह्मी पद है। कि आत्मा अपनी छटी ब्राह्मी अवस्था में शुद्ध चेतन रूप होकर पूर्ण परब्रह्म में अद्वैत हो जाती … Read more