निष्काम सेवा का महत्व

निष्काम सेवा का महत्व क्या है ? परमात्मा की ओर ले जाने का सबसे सहज यही साधन है। निष्काम सेवा से मालिक प्रसन्नता उतरती है व जीव उनके अलौकिक रूप का दर्शन । कर निहाल हो जाता है। निम्नलिखित कथा से इस तथ्य का स्पष्टीकरण होता है प्राचीनकाल में राजा चोला तामिलनाडू प्रदेश पर राज्य कर … Read more

प्रार्थना का महत्व

एक बार भगवान् श्री कृष्ण ने अपने सखा अर्जुन को प्रार्थना का महत्व दर्शाना चाहा। अर्जुन हैरानी से बोला, “मेरा ख्याल है आपको गलती लग रही है ये पाण्डु पुत्र अर्जुन द्वारा अर्पित किये फूल होंगे।” उस व्यक्ति ने कहा- “नहीं, नहीं। ये भीम की ही भेंट है। वह अटूट श्रद्धा, लगन व एकचित्त होकर … Read more

निष्काम सेवा से आत्मा स्वच्छ व निर्मल होती है

निष्काम सेवा मनुष्य देह के प्रत्येक अंग-नेत्र, कान, हाथ, पैर तथा मन सब पूर्ण रूपेण मालिक की सेवा में लगाने चाहिए। जिससे अन्तरात्मा शुद्ध हो जाती है। जब हम अपने सद्गुरु तथा सन्त-महापुरुषों की सेवा करते हैं तो हमारा हर कर्म पवित्र और निष्काम होता है, जो हमें कर्म-बन्धन से रहित करता है। निष्काम सेवा … Read more

प्रार्थना कैसी करनी चाहिए

प्रार्थना का अर्थ प्रार्थना का अर्थ – मालिक की मौज में समर्पित प्रार्थना ईश्वर से मिलने के लिए याचना है। वे आँखें धन्य हैं जिनमें से प्रभु प्रियतम की याद में आँसू के मोती झरते हैं। ईश्वर के समीप लाती है back to आनंद संदेश

क़ामिल मुर्शिद शायरी ! kamil murshid shayri in hindi

क़ामिल मुर्शिद शायरी – मेरे दिल में दिल का प्यारा है मगर मिलता नहीं ।  क़ामिल मुर्शिद शायरी मेरे दिल में दिल का प्यारा है मगर मिलता नहीं ।  हर शै में उसका नज़ारा है मगर मिलता नहीं ॥  ढूँढता फिरता हूँ उसको दर-ब-दर और कूब्कू ।  हर जगह वो आश्कारा है मगर मिलता नहीं … Read more

अरदास

रूहानी अरदास पारब्रह्म सतगुरु भगवान, बक्शों भक्ति का वरदान।  मात पिता तुम बंधु सहाई, महिमा तुम्हारी बरनी ना जाए।  तुम बिन देव ना मानूं दूजा, बक्शों चरण कमल की पूजा।  जन्म मरन का संकट हर दो, नाम रतन से झोली भर दो।  नाम जपु तेरा दिन राती, जोत जगे बिन दीपक बाती।  मोह माया अभिमान … Read more

श्री आरती पूजा

॥ दोहा ॥ श्री आरती-पूजा वन्दना, आराधना प्रति रोज होत सतत् रहे लवलीन जो, भव का नाशे रोग ‘आ-रती’ शब्द का अर्थ  ‘आ-रती’ शब्द का अर्थ है, आत्मा का प्रभु परमात्मा की ओर प्रेम तथा आकर्षण। बाह्य रूप में प्रज्वलित ज्योति से पूजा की जाती है इस प्रज्वलित जोत का गहरा अर्थ है। यह जोत … Read more

मनुष्य की इच्छाएं

यदि इन सांसारिक वस्तुओं से सुख और शान्ति प्राप्त हो सकती तो इस संसार का समूचा ढाँचा ही विपरीत होता। जो लोग संसार के कोलाहलपूर्ण आमोद-प्रमोद में पूर्णतया निमग्न हैं और जिन्हें प्रयोग के लिए सभी शारीरिक सुख-सुविधाएँ प्राप्त हैं, सुखी एवं आनन्दमग्न होते। परन्तु देखा यही जाता है कि वे ही सबसे अधिक दुःखी … Read more

आज्ञा का पालन

क्यों आज्ञा का पालन जरूरी है ? हममें असंख्य कमियां हैं और उनमें से अनेकों को हम जानते भी हैं। परन्तु इन कमजोरियों को दूर करना मनुष्य की अपनी सामर्थ्य से बाहर है। इस कार्य के लिए उसे किसी दूसरे की सहायता और निर्देशन की आवश्यकता होती है। क्या उसके सम्बन्धी या मित्र उसकी इस … Read more

आनंद के स्त्रोत

 सद्गुरु से दीक्षा लेने वाले शायद प्रारम्भिक अवस्था में ‘शब्द’ का अर्थ अच्छी तरह से नहीं समझ पाते हैं क्योंकि अधिकांशत जिज्ञासुओं की यह सामान्य धारणा होती है कि जब एक बार सद्गुरु किसी साधक को दीक्षा दे देते हैं तो उसके बाद उनकी ज़िम्मेवारी समाप्त हो जाती है। परन्तु हकीकत इसके विपरीत है। वास्तव … Read more

आत्मा-सागर की एक बूंद

परमेश्वर का निवास शरीर के भीतर है। प्रभु ईसामसीह कहते – हैं, “परमेश्वर का राज्य तुम्हारे भीतर है।” गुरुवाणी में भी कहा गया है : आतम महि रामु राम महि आतमु । चीनसि गुर बीचारा ॥ जीवात्मा और परमात्मा का सम्बन्ध भी अद्भुत है। जसे जीवात्मा हम में है और उसी तरह परमात्मा भी है … Read more

भक्ति की महिमा

प्यार दो प्रकार का होता है भगवान श्री राम और भक्त बाली की भक्ति की महिमा बाली का भगवान् राम से प्रश्न करना मुझे एक है शिकारी की भाँति आपने छुपकर बाण मारा, यह कहाँ का है धर्म है? भगवान् भी उसके प्रश्न का उत्तर नीति से ही देते हैं। बाली का भगवान से पूछना … Read more